टेस्‍ट क्रिकेट में सर्वाधिक विकेट लेने वाले महान गेंदबाज, श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन ने महेंद्र सिंह धोनी की सराहना करते हुए उन्‍हें भारत के सर्वश्रेष्‍ठ कप्‍तानों में से एक बताया है. धोनी को बेहद सौम्‍य और विनम्र बताते हुए मुरली ने कहा, ‘आईपीएल की चेन्नई सुपर किंग्स टीम में मैं तीन साल उनकी कप्तानी में खेला और पाया कि उनमें जरा भी अकड़ नहीं है. धोनी हमेशा जमीन से जुड़े रहे और मुझसे तथा माइकल हसी जैसे सीनियर खिलाड़ियों से मशविरा लेते थे. भारत में इतना लोकप्रिय होने के बावजूद उनका जीवन स्तर सादगी भरा रहा.’

अपनी कप्‍तानी में 2007 में भारत को टी20 वर्ल्‍ड कप और 2011 में वर्ल्‍डकप जिताने वाले माही ने हाल ही में वनडे और टी-20 टीमों के कप्तान पद से इस्तीफा दे दिया है. बंगाल क्रिकेट संघ (सीएबी) के विजन-2020 कार्यक्रम में शामिल मुरली ने यहां कहा, ‘इतने लंबे क्रिकेट करियर में धोनी भारत के सर्वश्रेष्ठ कप्तानों में से एक रहे.” मुरलीधरन से जब पूछा गया कि क्या कोहली कप्‍तानी में धोनी की भरपाई कर पाएंगे तो श्रीलंका के इस पूर्व गेंदबाज ने कहा, ‘कोहली से मुझे बहुत उम्मीद है, क्योंकि उन्हें चुनौतियां पसंद हैं और वह एक कमाल के बल्लेबाज हैं.’

इंग्‍लैंड के खिलाफ आगामी 15 जनवरी से शुरू होने वाली वनडे सीरीज के बारे में मुरली ने टीम इंडिया को विपक्षी टीम को हल्‍के में नहीं लेने की नसीहत दी. उन्‍होंने कहा, ‘इंग्लैंड की वनडे और टी-20 टीमें अच्छी हैं और टेस्ट टीम से बिल्कुल अलग हैं. कोहली को वनडे सीरीज के दौरान इंग्लैंड को कम करके नहीं आंकना चाहिए और खेल के दौरान धोनी से लगातार राय लेनी होगी.”

श्रीलंका के लिए 133 टेस्ट मैचों में 800 विकेट लेने वाले मुरलीधरन ने संक्रमण के दौर से गुजर रही श्रीलंकाई टीम के प्रदर्शन पर कहा, ‘दिग्गज खिलाड़ियों के जाने से रिक्त हुए स्थान की भरपाई इतनी जल्दी नहीं हो सकेगी. इसमें अभी समय लगेगा. उन्‍होंने कहा कि श्रीलंका टीम के युवा खिलाड़ी अभी सीखने के दौर से गुजर रहे हैं. उम्मीद है कि वे जल्द ही फॉर्म में आ जाएंगे.


MORE FROM RUMOURNEWS