अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में संसद सहित देश के तीन शहरों में हुए सिलसिलेवार हमलों में करीब 50 लोग मारे गए और 100 से ज्यादा लोग घायल हो गए.

संयुक्त अरब अमीरात के राजदूत की अफगानिस्तान यात्रा के दौरान दक्षिण कंधार में गवर्नर के घर के भीतर सोफे में लगा बम फटने से कम से कम नौ लोग मारे गए, हालांकि इस हमले में राजदूत सुरक्षित हैं. उन्हें कुछ चोटें आई हैं.

घटना के कुछ ही घंटों पहले, तालिबान ने काबुल में संसद के एनेक्सी से निकल रहे कर्मचारियों को निशाना बनाकर हमला किया जिसमें कम से कम 30 लोग मारे गए और 80 लोग घायल हो गए. इसी परिसर में अफगानिस्तान के सांसदों के कार्यालय हैं.

गृह मंत्रालय के प्रवक्ता सादिक सिद्दीकी ने कहा कि पहले हमले में एक आत्मघाती हमलावर ने सरकारी कर्मचारियों को लेकर जा रही मिनी बस के पास खुद को विस्फोट में उड़ा लिया। जब बचावकर्मी मौके पर पहुंचे, तब तक वहां कार बम में विस्फोट हुआ. हमलों में मारे गए 30 लोगों में चार पुलिसकर्मी भी शामिल हैं. वे लोग पहले हमले के बाद पीड़ितों की मदद करने आए थे और कार बम की चपेट में आ गए.

वहीं हेलमंड प्रांत की राजधानी लश्कर गाह में तालिबान आत्मघाती हमलावर ने खुद को बम से उड़ा लिया. इस घटना में सात लोग मारे गए.

बड़े पैमाने पर हो रहे नरसंहार अफगानिस्तान में बढ़ते उग्रवाद का संकेत हैं. वहां अमेरिका समर्थित अफगान सरकार तालिबानी उग्रवाद के साथ साथ अल-कायदा और इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों से भी मुकाबला करने का प्रयास कर रही है.

कंधार के प्रांतीय पुलिस प्रमुख अब्दुल रज्जाक ने बताया कि प्रांत के गवर्नर तथा यूएई के राजदूत जुमा मोहम्मद अब्दुल्ला अल काबी विस्फोट में घायल हुए हैं, लेकिन कई लोग इतने जल गए हैं कि उनकी पहचान संभव नहीं है.


MORE FROM RUMOURNEWS